सहरसा जिला का इतिहास और प्रसिद्ध स्थल के नाम

सहरसा जिला :- सहरसा बिहार राज्य का एक जिला ही जिसकी स्थापना 1 अप्रैल 1954 को हुई थी जो पूर्वी बिहार में स्थित है। 2 अक्टुबर 1972 से सहरसा जिला कोशी प्रमण्डल का मुख्यालय है। सहरसा ज़िला कोसी विभाग में है और इसका प्रशासनिक मुख्यालय सहरसा शहर है। यह ज़िला अपनी सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत के लिए भी प्रसिद्ध है, और इस जिले में प्राचीन स्थल, मंदिर, और ऐतिहासिक स्मारक हैं। सहरसा जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थलों के रूप में प्रसिद्ध स्थल है जैसे :- माँ श्री उग्रतारा मंदिर, महिषी, सूर्य मंदिर, कन्दाहा, चंडिका स्थान, विराटपुर, रक्तकाली मंदिर, मत्स्यगंधा हैं।इसके अतिरिक्त सहरसा ज़िला में मस्जिदें और गुरुद्वारे हैं, जैसे सिमरचन्द्र गुरुद्वारा और सहरसा जमा मस्जिदहै। यह स्थल जिले की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत को दर्शाते हैं और पर्यटन स्थल के रूप में भी महत्वपूर्ण हैं। सहरसा जिला से अलग 9 मई 1981 को मधेपुरा जिला की स्थापना की गयी थी। सहरसा ज़िला की आबादी मुख्यत: गाँवों में बसी हुई है। इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर है और यहां मुख्य रूप से धान, गेहूँ, मक्का, और तिल की खेती की जाती है। सहरसा ज़िला की स्थानीय फसलें जैव उद्योग, और कृषि उत्पाद है।पूरे कोसी क्षेत्र को सबसे बड़ा ईंट उत्पादन केंद्र सहरसा जिला है। सहरसा जिला में 2 अनुमंडल सहरसा अनुमंडल और सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल इस जिले में 10 प्रखंड है। सहरसा अनुमंडल में 7 प्रखंड और सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल में 3 प्रखंड है। सहरसा जिला की कुल जनसँख्या 1,900,661 और क्षेत्रफल 1687 वर्ग कि. मी. है।

सहरसा जिला के प्रखंड का नाम :- सहरसा जिले के 10 प्रखंड के नाम है जैसे काहरा, सत्तार कटैया, नौहट्टा, सोनबरसा, महिषी, खट्टा बाजार, पत्थरघाट, बनमा इटहरी, सलखुआ और सिमरि बख्तियारपुर है ।

इतिहास :- 2 अक्टूबर 1972 को सहरसा जिला को कोसी प्रमंडल का मुख्यालय भी बनाया गया  जिसमें सहरसा, पूर्णिया और कटिहार जिले शामिल थे। इसके साथ ही सहरसा जिला मुंगेर और भागलपुर जिलों का हिस्सा था। 1 अप्रैल 1954 को इसे अपना एक जिला बना दिया गया। इसी प्रकार 1 दिसंबर 1972 को एक नया सिविल सब-डिवीजन बीरपुर बनाया गया, जिसमें राघोपुर, छातापुर, बसंतपुर और निर्मली सहित 24 विकास खंड शामिल थे, जो पहले जिले के सुपौल उपखंड के अंतर्गत थे। 30 अप्रैल 1981 और 1991 को सहरसा जिले से दो नए जिले मधेपुरा और सुपौल का गठन किया गया था। सहरसा जिले में अब दो उपमंडल सहरसा सदर और सिमरी बख्तियारपुर शामिल हैं। जिले में 10-10 विकास खंड और अंचल शामिल हैं।अतीत में जिले का एक बड़ा हिस्सा हिमालय से निकलने वाली कई नदियों के कारण वार्षिक बाढ़ और बाढ़ का शिकार होता था। अप्रत्याशित कोसी नदी की अनियमितताओं के अधीन होने से पहले उप तराई धन की खेती के लिए प्रसिद्ध था।

प्रागैतिहासिक काल :- सहरसा जिला मिथिला का हिस्सा था और इसका इतिहास पौराणिक कथाओं के अनुसार सीता के पिता राजा जनक से जुड़ा है। तांत्रिक विद्वान और भक्त चंडी मंदिर को महत्व देते हैं, जिसके बारे में कहा जाता है कि यह मंदिर धमारा घाट के पास कात्यायनी मंदिर और महिषी में तारा मंदिर के साथ एक समबाहु त्रिभुज बनाता है। नवरात्रि के दौरान दूर-दूर से लोग शक्ति की देवी की पूजा करने के लिए गांव आते हैं। मंडन मिश्र और शंकराचार्य के बीच प्रसिद्ध वार्तालाप सहरसा के महिषी में हुआ था।

Load More Related Articles
Load More By Mili Patwey
Load More In Bihar
Comments are closed.

Check Also

यमुना एक्सप्रेसवे पर एक्सीडेंट में चकनाचूर क्रेटा कार में फांसी मां-बेटी, एयरबैग से बची जान

यमुना एक्सप्रेसवे पर एक्सीडेंट : –घटना का एक वीडियो सामने आया है जो की कल की है जिसम…